Navratri 2021 : नवरात्रि अक्टूबर में कब है ?

Navratri 2021  कब से शुरू हो रहे  तिथि और घटस्थापना का शुभ मुहूर्त

Shardiya Navratri 2021 /Navratri kab se hai(Navratri 2021कब से शुरू हो रहे): –

Navratri 2021 नवरात्रि 2021
गुरु, 7 अक्टूबर, 2021 – शुक्र, 15 अक्टूबर, 2021

Navratri 2021 देवी मां के पावन 9 दिन का पर्व शारदीय नवरात्रि आश्विन मास शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा को 7 अक्टूबर 2021 से आरंभ होगा. 14 अक्टूबर तक चलने वाले इन दिनों में मां दुर्गा के अलग-अलग स्वरूपों की पूजा की जाती है. 15 अक्टूबर को धूमधाम के साथ विजयदशमी यानी दशहरा मनाया जाएगा. इसी दिन दुर्गा विसर्जन भी किया जाएगा.इसी दिन दुर्गा विसर्जन भी किया जाएगा. शास्त्रों में मां दुर्गा के नौ रूपों का बखान किया गया है. नवरात्र के दिनों में मां दुर्गा के अलग-अलग स्वरूपों की पूजा करने से विशेष पुण्य मिलता है. मान्यता है कि मां दुर्गा अपने भक्तों के हर कष्ट हर लेती हैं.

"Navratri 2021"
Navratri 2021

Navratri 2021: इस साल 8 दिन के पड़ रहे शारदीय नवरात्रि :-

Navratri 2021 Maha Ashtami Puja (महा अष्टमी कब है) -इस साल महाअष्टमी 13 अक्टूबर (बुधवार) को पड़ रही है. ज्योतिषाचार्य के अनुसार, इस साल चतुर्थी तिथि का क्षय होने से शारदीय नवरात्रि आठ दिन के पड़ रहे हैं. ऐसे में 13 अक्टूबर को अष्टमी व्रत रखना उत्तम है. नवरात्रि के आठवें दिन महागौरी की पूजा की जाती है.

नवरात्रि कब शुरू होने वाले हैं? जानें कलश स्थापना और नवमी की स्थापना और शुभ मुहूर्त

नवरात्रि के पर्व का विशेष महत्व है. हिंदू धर्म में मां दुर्गा को शक्ति का प्रतीक माना गया है. नवरात्रि का पर्व मां दुर्गा को समर्पित है. नवरात्रि में मां दुर्गा के विभिन्न स्वरूपों की पूजा और उपासना की जाती है. मान्यता है कि नवरात्रि पर मां दुर्गा की विधि पूर्वक पूजा करने से जीवन में सुख समृद्धि आती है. नवरात्रि के मौके पर मां दुर्गा के भक्त 9 दिनों तक व्रत रखकर मां दुर्गा की भक्ति में लीन रहते हैं.

Navratri 2021 दुर्गा पूजा कलश स्थापना कब है 2021?
नवरात्रि का पर्व कलश स्थापना से आरंभ होता है. शरद नवरात्रि में 07 अक्टूबर 2021 को कलश स्थापना यानि घटस्थापना की जाएगी. कलश स्थापना के साथ ही नवरात्रि के पर्व की विधि शुरूआत मानी जाती है.

navratri 2021 कलश स्थापना (घटस्थापना )का शुभ मुहूर्त :-

शुभ मुहूर्त सुबह 6 बजकर 17 मिनट से सुबह 7 बजकर 7 मिनट तक

घटस्थापना के लिए शुभ मुहूर्त का विशेष रूप से ध्यान रखें. 7 अक्टूबर को घटस्थापना का शुभ मुहूर्त सुबह 6 बजकर 17 मिनट से सुबह 7 बजकर 7 मिनट तक का है. इसी समय घटस्थापना करने से नवरात्रि फलदायी होते हैं. घटस्थापना या कलश स्थापना के दौरान कुछ विशेष नियमों को ध्यान में रखना चाहिए.

 घटस्थापना विधि:-

घटस्थापना या कलश स्थापना के दौरान कुछ विशेष नियमों को ध्यान में रखना चाहिए. कि देवी मां की चौकी.संजाने के लिए हमेशा उत्तर-पूर्व दिशा का स्थान चुनें. इस स्थान को साफ कर लें और गंगाजल से शुद्ध करें. एक लकड़ी की चौकी रखकर उस पर लाल रंग का साफ कपड़ा बिछाकर देवी मां की मूर्ति की स्थापना करें. इसके बाद प्रथम पूज्य गणेश जी का ध्यान करें और कलश स्थापना करें. कलश स्थापना या घट स्थापना के लिए नारियल मे.चुनरी लपेट दें और कलश के मुख पर मौली बांधे. कलश में जल भरकर उसमें एक लौंग का जोड़ा, सुपारी हल्दी की गांठ, दूर्वा और रुपए का सिक्का डालें.  अब कलश में आम के पत्ते लगाकर उस पर नारियल रखें और फिर इस कलश को दुर्गा की प्रतिमा की दायीं ओर स्थापित करें.

 

Leave a Reply